Sawan Somwar 2022 Start Date, End Date and Time in India

You are currently viewing Sawan Somwar 2022 Start Date, End Date and Time in India

Sawan Somwar 2022 Start Dates: सावन का महीना शुरू हो चूका है और हिन्दू शास्त्रों के अनुसार सावन के पहले सोमवार का विशेष महत्व होता है। सावन में सोमवार का व्रत करने से महादेव की कृपा से भक्तों की मानी गयी मनोकामनाएं पूरी होने की मान्यता है। तो आइए जानते है की इस साल कब है सावन का पहला सोमवार:

Sawan First Monday 2022 Date: हिन्दू शास्त्रों में सावन को बहुत ही पवित्र माना गया है। भगवन शिव के भक्तों को इस महीने का बहुत ही बेसब्री से इंतजार रहता है। सावन के महीने में भगवान शंकर की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस महीने जो व्यक्ति भगवान शिव की पूजा व सोमवार व्रत रखता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

यह भी पढ़े – Durga Puja 2022: दुर्गा पूजा 2022 में कब है, जाने शरद नवरात्रि की …

Sawan Somwar 2022 Start Date and End Date

सावन माह की शुरुआत 14 जुलाई से हो गई है, जो कि 12 अगस्त तक रहेगा। सावन मास की शिवरात्रि 26 जुलाई 2022 को है।

सावन सोमवार 2022 की तिथियां

18 जुलाई 2022सावन का पहला सोमवार 2022
25 जुलाई 2022सावन का दूसरा सोमवार 2022
 01 अगस्त 2022 सावन का तीसरा सोमवार 2022
 08 अगस्त 2022सावन का चौथा सोमवार 2022

सावन महीने में कैसे करे शिव की पूजा- विधि

Sawan Somwar puja
  • सबसे पहले सुबह जल्दी उठ जाएं और स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें।
  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें।
  • शिवलिंग में गंगा जल और दूध चढ़ाएं।
  • भगवान शिव को लाल पुष्प, दूध, धतूरा, धूप और बेलपत्र अर्पित करें। साथ ही 108 बार महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।
  • भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है।
  • भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्यान करें।

यह भी पढ़े – जन्माष्टमी 2022 में कब की है, जानें भाद्रपद मास के इस पर्व की डेट, पूजा मुहूर्त और महत्व

भगवान शिव की पूजा में प्रयोग होने वाली सामग्री-

पुष्प, पंच फल पंच मेवा, रत्न, सोना, चांदी, दक्षिणा, पूजा के बर्तन, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगा जल, पवित्र जल, पंच रस, इत्र, गंध रोली, मौली जनेऊ, पंच मिष्ठान्न, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, बेर, आम्र मंजरी, जौ की बालें,तुलसी दल, मंदार पुष्प, गाय का कच्चा दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीप, रूई, मलयागिरी, चंदन, शिव व मां पार्वती की श्रृंगार की सामग्री आदि।