Movie prime
Chhath Puja 2021 : कब है छठ पूजा ? जानें नहाय खाय से लेकर निर्जला उपवास डेट और पूजा- विधि

Chhath Puja 2021 : भारत में छठ पूजा को महापर्व के नाम से जाना जाता है। महापर्व छठ भारत के पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में यह महापर्व बहुत ही धूम- धाम से मनाया जाता है। हर साल छठ पूजा कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष की षष्ठी यानी छठी तिथि से आरंभ हो जाती ... Read more

 

Chhath Puja 2021 : भारत में छठ पूजा को महापर्व के नाम से जाना जाता है। महापर्व छठ भारत के पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में यह महापर्व बहुत ही धूम- धाम से मनाया जाता है। हर साल छठ पूजा कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष की षष्ठी यानी छठी तिथि से आरंभ हो जाती है। छठ पूजा 4 दिनों तक मनाया जाता है। महिलाएं छठ पूजा के दौरान लगभग 36 घंटे का व्रत रखती हैं। छठ पूजा में छठी मईया और सूर्यदेव की पूजा की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार छठी मईया सूर्य देव की मानस बहन हैं।

Chhath Puja 2021

Chhath puja 2021, chhath puja 2021 chaiti, chhath puja 2021 date in india calendar, chhath puja 2021 date november, chhath puja 2021 mein kab hai, chaiti chhath puja 2021 date, chaiti chhath puja 2021 date in bihar, chait chhath puja 2021, kartik chhath puja 2021 date, chhath puja 2021 date in bihar hindi

Chhath Puja 2021 in India- Wednesday, 10 November 2021

8 नवंबर से शुरू होगा छठ का महापर्व

छठ पूजा का त्यौहार हर साल दिवाली के 6 दिन बाद मनाया जाता है। इस साल 8 नवंबर से छठ पूजा की शुरुआत होगी।

नहाय- खाय

8 नवंबर 2021 से नहाय- खाय की शुरआत होगी। लोग नहाय खाय के दिन पूरे घर की साफ- सफाई करने के बाद स्नान करके व्रत का संकल्प लेती है। इस दिन चना दाल, कद्दू की सब्जी और चावल का प्रसाद ग्रहण किया जाता है। अगले दिन खरना से व्रत की शुरुआत होती है।

खरना

खरना 9 नवंबर 2021 मनाया जाएगा। इस दिन महिलाएं पूरे दिन व्रत रखती हैं और शाम को मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ वाली खीर का प्रसाद बनाती हैं और फिर सूर्य देव की पूजा करने के बाद यह प्रसाद ग्रहण करती है। इसके बाद व्रत का पारणा छठ के समापन के बाद ही किया जाता है।

खरना के अगले दिन सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है

खरना के अगले दिन शाम को महिलाएं नदी या तालाब में खड़ी होकर सूर्य देव को अर्घ्य देती हैं। इस साल 10 नवंबर 2021 को शाम को सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा।

छठ पर्व का समापन

अंतिम दिन- खरना के अगले दिन सुबह छठ पूजा का समापन होता है। इस साल 11 नवंबर को इस महापर्व का समापन किया जाएगा। चौथे दिन सुबह सुबह महिलाएं सूर्योदय से पहले ही नदी या तालाब के पानी में उतर जाती हैं और सूर्यदेव से प्रार्थना करती हैं। इसके बाद उगते सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद पूजा का समापन कर व्रत का पारणा किया जाता है।