Monday, July 15, 2024
Homeट्रेवलPlaces to visit in Nalanda: नालंदा घूमने का है मन तो इन...

Places to visit in Nalanda: नालंदा घूमने का है मन तो इन जगहों को जरूर करिएगा एक्सप्लोर

बिहार का नालंदा विश्वविद्यालय प्राचीन काल से ही शिक्षा, संस्कृति और सभ्यता में अपने योगदान के लिए विश्व विख्यात है। बिहार की राजधानी पटना से लगभग 95 किमी दूर स्थित इस शहर में दुनिया भर से बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। अगर आप शिक्षा, धर्म और इतिहास में रुचि रखते है तो आपको इस जगह एक बार जरूर आना चाहिए।

Nalanda Tourist Places: अगर आपको घूमना पसंद है और आप ऐतिहासिक जगहों को एक्सप्लोर करना चाहते है तो आप शिक्षा और संस्कृति से जुड़ी जगहों को एक्सप्लोर कर सकते है। इस कड़ी में आप सबसे पहले विश्व के सबसे पुराने विश्वविद्यालय नालंदा को चुन सकते है। जहाँ आप नालंदा विश्वविद्यालय नालंदा के इलावा बहुत से ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत वाले स्थान को देख सकते है। यहां पहुंचकर आप शिक्षा, धर्म और इतिहास से जुड़ी अपनी जिज्ञासा को शांत कर सकते हैं। चलिए हम आपको बताते हैं यहां आप किन स्थलों पर जा सकते हैं।

नालंदा में घूमने के लिए बेहतरीन जगहें

1. नालंदा विश्वविद्यालय: नालंदा का प्राचीन विश्वविद्यालय दुनिया के सबसे पुराने विश्वविद्यालयों में से एक है। यहां पहुंच कर आप देखंगे कि कैसे भारत का सबसे प्राचीन विश्वविद्यालय आज खंडहर में तब्दील हो चूका है।यहां आकर आप मठों और स्तूपों के अवशेष देख सकते हैं, जो शिक्षा और बौद्ध धर्म के केंद्र के रूप में इसकी प्रतिष्ठा को दर्शाते हैं।

स्थान: राजगीर, बिहार 803116
समय: सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक
प्रवेश शुल्क: भारतीयों और सार्क और बिम्सटेक नागरिकों के लिए 15 रुपये; विदेशियों के लिए 200 रुपये; 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए निःशुल्क प्रवेश

2. नालंदा म्यूजियम: इस म्यूजियम में आपको नालंदा विश्वविद्यालय की खुदाई के दौरान मिली, सिक्के, मूर्तियां, और कई ऐतिहासिक वस्त्रों का संग्रह देखने को मिलेगा यह संग्रहालय आपको नालंदा की समृद्ध सांस्कृतिक के और करीब लेकर जाएगा।

3. हुयेन त्सांग मेमोरियल हॉल: यह हॉल प्रसिद्ध चीनी बौद्ध भिक्षु और विद्वान हुयेन त्सांग की स्मृति में बनाया गया है, हुयेन त्सांग ने नालंदा विश्वविद्यालय में पढ़ाई कर यहां शिक्षक के तौर पर काम किया था।इसलिए यह हॉल उन्हें समर्पित किया गया है। ह्वेन त्सांग मेमोरियल हॉल का निर्माण कार्य 1960 में शुरू हुआ और 1984 में यह पूरी तरह से बनकर तैयार हो गया।

Hieun Tsang Memorial Hall

4. नव नालंदा महाविहार: नव नालंदा महाविहार एक मॉर्डन एजुकेशनल इंस्टीट्यूट है जो प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय की परंपरा को आगे बढ़ाने का काम कर रहा है।

स्थान: नालंदा विश्वविद्यालय साइट रोड, बड़गांव, बिहार 803111
समय: सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक

5. सूर्य मंदिर: नालंदा का यह मंदिर सूर्य देवता को समर्पित है और यहां हर साल छठ पूजा का भव्य आयोजन होता है।

समय: सुबह 6:00 बजे से शाम 8:00 बजे तक

6. राजगीर: नालंदा से थोड़ी दूरी पर स्थित राजगीर एक ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल है, जो बुद्ध और महावीर दोनों से संबंधित है। यहां विश्व शांति स्तूप और गर्म पानी के कुंड आकर्षण का केंद्र हैं।

Keep visiting The Mithila Times for such beautiful articles. Follow us on Facebook, Twitter, Instagram, and Google News for regular updates.

विपिन कुमार झा
विपिन कुमार झा
"विपिन कुमार झा, एक अनुभवी पत्रकार हैं, जिन्हें मीडिया इंडस्ट्री में करीब 4 साल का एक्सपीरिएंस है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक ऑनलाइन समाचार वेबसाइट से की थी, जहां उन्होंने खेल, टेक और लाइफस्टाइल समेत कई सेक्शन में काम किया। इन्हें टेक्नोलॉजी, खेल और लाइफस्टाइल से जुड़ी काफी न्यूज लिखना, पढ़ना काफी पसंद है। इन्होंने इन सभी सेक्शन को बड़े पैमाने पर कवर किया है और पाठकों लिए बेहद शानदर रिपोर्ट पेश की हैं।
RELATED ARTICLES

Most Popular