Sunday, April 14, 2024
HomeजानकारीJaneu Sankasr Muhurat 2024: मिथिला पंचांग के अनुसार 2024 में उपनयन (जनेऊ)...

Janeu Sankasr Muhurat 2024: मिथिला पंचांग के अनुसार 2024 में उपनयन (जनेऊ) का मुहूर्त कब है- जानिए मुहूर्त तिथि और दिन

Mithila Panchang Ke Anusar 2024 Me Janeoo Kab Hai: हिंदू धर्म में जनेऊ संस्कार का विशेष महत्व है। इसे 24 संस्कारों में से एक माना जाता है। जनेऊ संस्कार 10 साल से कम उम्र के बच्चे का किया जाता है। मिथिला में इसे उपनयन कहते है।

Janeu Sanskar: सनातन हिन्दू धर्म के 16 संस्कारों में से एक ‘उपनयन संस्कार’ के अंतर्गत ही जनेऊ पहनी जाती है जिसे ‘यज्ञोपवीत संस्कार’ भी कहते हैं। इस संस्कार में मुंडन और पवित्र जल में स्नान भी अहम होते हैं। तो आइए जानते हैं कि इस साल मैथिली पंचांग/मिथिला पंचांग के अनुसार 2024 में उपनयन (जनेऊ) का मुहूर्त (Mithila Panchang Upnayan Muhurat Date 2024) कब-कब है।

मिथिला पंचांग अथवा मैथिली पत्रा के अनुसार 2024 जेनेऊ (उपनयन संस्कार शुभ मुहूर्त) के शुभ मुहूर्त

  • Upnayan Date 2024 Mithila Panchang
  • Janeu Muhurat 2024 Mithila Panchang
महीनातिथिदिन
जनवरी21रविवार 
फरवरी19सोमवार 
फरवरी20मंगलवार
फरवरी21बुधवार
मार्च20बुधवार 
मार्च21गुरुवार 
अप्रैल18गुरुवार  
अप्रैल19शुक्रवार  
जुलाई08सोमवार 
जुलाई10बुधवार

जनेऊ क्या है : जनेऊ को संस्कृत भाषा में ‘यज्ञोपवीत’ कहा जाता है। यह तीन धागों वाला सूत से बना पवित्र धागा होता है, जिसे व्यक्ति बाएं कंधे के ऊपर तथा दाईं भुजा के नीचे पहनता है। अर्थात् इसे गले में इस तरह डाला जाता है कि वह बाएं कंधे के ऊपर रहे।

उपनयन अथवा जनेऊ का  मंत्र:

यज्ञोपवीतं परमं पवित्रं प्रजापतेर्यत्सहजं पुरस्तात्।

आयुधग्रं प्रतिमुञ्च शुभ्रं यज्ञोपवीतं बलमस्तु तेजः।।

विपिन कुमार झा
विपिन कुमार झा
"विपिन कुमार झा, एक अनुभवी पत्रकार हैं, जिन्हें मीडिया इंडस्ट्री में करीब 4 साल का एक्सपीरिएंस है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक ऑनलाइन समाचार वेबसाइट से की थी, जहां उन्होंने खेल, टेक और लाइफस्टाइल समेत कई सेक्शन में काम किया। इन्हें टेक्नोलॉजी, खेल और लाइफस्टाइल से जुड़ी काफी न्यूज लिखना, पढ़ना काफी पसंद है। इन्होंने इन सभी सेक्शन को बड़े पैमाने पर कवर किया है और पाठकों लिए बेहद शानदर रिपोर्ट पेश की हैं।
RELATED ARTICLES

Most Popular