Sunday, April 14, 2024
Homeभक्ति पर्वमैथिली भगवती गीत: जगदम्ब अहीं अबिलम्ब हमर हे माय आहाँ बिनु आश...

मैथिली भगवती गीत: जगदम्ब अहीं अबिलम्ब हमर हे माय आहाँ बिनु आश ककर…

Jagdamab Ahi Avlamb Humar: जगदम्ब अहीं अबिलम्ब हमर हे माय आहाँ बिनु आश ककर, जँ माय आहाँ दुख नहिं सुनबई, त जाय कहु ककरा कहबै! इसे मैथिलि गीत को प्रदीप जी द्वारा लिखा गया है।

जगदम्ब अहीं अबिलम्ब हमर (Jagdamb Ahin Awlamb Hamar Lyrics)

जगदम्ब अहीं अबिलम्ब हमर
हे माय आहाँ बिनु आश ककर

जँ माय आहाँ दुख नहिं सुनबई
त जाय कहु ककरा कहबै

करु माफ जननी अपराध हमर
हे माय आहाँ बिनु आश ककर

हम भरि जग सँ ठुकरायल छी
माँ अहींक शरण में आयल छी

देखु हम परलऊँ बीच भमर
हे माय आहाँ बिनु आश ककर

काली लक्षमी कल्याणी छी
तारा अम्बे ब्रह्माणी छी

अछि पुत्र-कपुत्र बनल दुभर
हे माय आहाँ बिनु आश ककर
जगदम्ब…..

जगदम्ब अहीं अअवलम्ब हमर PDF

जगदम्ब अहि अब्लम्ब हमर Video

विपिन कुमार झा
विपिन कुमार झा
"विपिन कुमार झा, एक अनुभवी पत्रकार हैं, जिन्हें मीडिया इंडस्ट्री में करीब 4 साल का एक्सपीरिएंस है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक ऑनलाइन समाचार वेबसाइट से की थी, जहां उन्होंने खेल, टेक और लाइफस्टाइल समेत कई सेक्शन में काम किया। इन्हें टेक्नोलॉजी, खेल और लाइफस्टाइल से जुड़ी काफी न्यूज लिखना, पढ़ना काफी पसंद है। इन्होंने इन सभी सेक्शन को बड़े पैमाने पर कवर किया है और पाठकों लिए बेहद शानदर रिपोर्ट पेश की हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular