DC vs RR क्रिकेट मैदान पर ऋषभ पंत ने खेल भावना का किया अपमान, मैदान पर दिखाया रौद्र रूप, दोनों बल्लेबाजों को की वापस बुलाने की कोशिश 

DC vs RR No-Ball Controversy : मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच खेले गए आईपीएल के 34वें मुकाबले में सब कुछ देखने को मिला, चौकेछक्के, शतक, अच्छा बॉलिंग लेकिन मैच के आखरी ओवर की तीसरी गेंद पर कुछ ऐसा हुआ जिसने सबका ध्यानअपनी और खींचा। दरअसल, आखरी ओवर में दिल्ली को जीत के लिए 36 रन की जरुरत थी और सामने थे कैरिबियन बैटर रोवमान पॉवेल। पॉवेल ने राजस्थान की तरफ से आखरी ओवर करने आए ओबेद मैककॉय को शुरुआती 3 गेंदों पर 3 छक्के जड़ दिए, लेकिन उनकी तीसरी जो गेंद थी वह कमर से ऊपर थी, लेकिन अंपायर ने उसे नोबॉल करार नहीं दिया और इस कारण से मैदान पर और दिल्ली के डगआउट में हंगामा शुरू हो गया।

Rishabh Pant

Rishabh Pant No Ball Drama: दिल्ली के खेमे ने अंपायरों से इसे चेक कराने के लिए कहा, लेकिन ग्राउंड् अंपायर्स ने ऐसा नहीं किया जिसके बाद कप्तान ऋषभ पंत कोगुस्सा गया और उन्होंने दोनों बल्लेबाजों की तरफ वापस आने का इशारा किया। ऋषभ पंत के इस बर्ताव ने खेल भावना का अपमान किया है। इसके बाद टीम के अस्सिटेंट कोच प्रवीण आमरे मैदान पर अंपायर से बात करने आए लेकिन अंपायरों ने उन्हें भी वापस भेजदिया। इधर मैच में शतक लगाने वाले जोस बटलर ने ऋषभ ने आग्रह किया कि वह मैच को चलने दे। जिसके बाद बाकी की तीन गेंदेफेंकी गई और राजस्थान ने यह मैच 15 रन से अपने नाम कर लिया। 

वह गेंद हमारे लिए महत्वपूर्ण सबकित हो सकती थी…….. ऋषभ पंत 

मैच के बाद पोस्ट मैच प्रेजेंटेशन के दौरान ऋषभ पंत ने उस बॉल को टीम के लिए महत्वपूर्ण बताया और उन्होंने कहा, “मुझे लगता है किवे पूरे खेल में अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे लेकिन अंत में पॉवेल ने हमें मौका दिया, मुझे लगा कि नो बॉल हमारे लिए कीमती हो सकती थीलेकिन यह मेरे नियंत्रण में नहीं है।

उन्होंने आगे कहा, ” हां, निराश हूं लेकिन इसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं कर सकता। हर कोई निराश था (डगआउट में) कि यह करीब भीनहीं था, मैदान में सभी ने देखा कि, मुझे लगता है कि तीसरे अंपायर को हस्तक्षेप करना चाहिए था और कहा कि यह नोबॉल है। जाहिरतौर पर यह सही नहीं था (आमरे को मैदान पर भेजना) लेकिन हमारे साथ जो हुआ वह भी सही नहीं है, यह उस समय की गर्मी में हुआ।यह दोनों पक्षों की गलती थी और यह निराशाजनक है क्योंकि हमने टूर्नामेंट में कुछ अच्छी अंपायरिंग देखी है। इतने करीब जाना निराशाजनक है, खासकर जब दूसरी टीम ने 200+ का स्कोर बनाया हो। मुझे लगता है कि हम और बेहतर गेंदबाजी कर सकते थे। मैंलोगों से कह सकता हूं कि अपने सिर को ऊपर रखें और अगले गेम की तैयारी करें।

%d bloggers like this: